Yogi Adityanath Biography in Hindi || अजय सिंह से योगी आदित्यनाथ तक की कहानी



Yogi Adityanath Biography in Hindi



हेलो दोस्तों! Hindi Insder पर आपका स्वागत है। में आज आपको “Yogi Adityanath Biography in Hindi || अजय सिंह से योगी आदित्यनाथ तक की कहानी” के बारे में बताऊंगा 


योगी आदित्य नाथ का शुरूआती जीवन

योगी आदित्यनाथ 5 बार गोरखपुर से सांसद रह चुके हैं। ओर फिलहाल में उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के पद पर हैं। 5 जून 1972 को जन्मे योगी आदित्यनाथ जी मुख्यमंत्री बनने तक की कहानी बहोत दिलचस्त है और में दावे के साथ कह सकता हूं कि अगर आप इस बायोग्राफी के अंत तक पढ़ेंगे तो आप योगी आदित्यनाथ के पूरे जीवन के बारे में जान जायेंगे। 

बात 2 दशक पहले की है गोरखपुर शहर के मुख्य बाजार गोल घर में गोरखनाथ मंदिर से संचालित इंट्रा कॉलेज में पढ़ने वाले का छात्र एक दुकान पर कपड़े खरीद ने के लिए गए। और उनका दुकानदार से विवाद हो गया। दुकानदार से झड़प हुई तो उसने रिवॉल्वर निकाली। 2 दीन बाद दुकानदार के खिलाफ कार्रवाई को लेकर एक युवा योगी के अगवाई में छात्रों ने उग्र प्रदर्शन किया। ओर वे एस एस पी आवाज की दीवार पर भी चढ़ गए।

ये जवान योगी कोई और नहीं बल्कि खुद योगी आदित्यनाथ जी थे। जिन्हाें ने कुछ समय पहले ही 15 फरवरी 1994 वे को नाथ संप्रदाय के सबसे प्रमुख मठ गोरखनाथ मंदिर के उत्तर अधिकारी के रूप में अपनी गुरु महंत अवेदनाथ से शिक्षा ली थी। गोरखपुर की राजनीति में वह एक एंग्री यंगमैन की ये धमाकेदार एंट्री थी। ये बही दोर था। जब गोरखपुर की राजनीति पर दो बाहुबली नेता हरिशंकर तिवारी और वीरेन्द्र प्रताप शाही की पकड़ कमजोर हो रही थी। 

युवाओं और खास कर गोरखपुर विश्व विद्यालय के सवर्ण छात्र नेताओं को इस एंग्री यंगमैन में हिंदू महासभा के अध्यक्ष रहे महंत दिग्विजन नाथ की छवि दिख रही थी। ओर वे इसी उम्मीद को लेकर योगी आदित्यनाथ के साथ जुड़ते गए। अब ये योगी हिंदुत्व के सबसे बड़े प्राण नेता के रूप में स्थापित हो चुका है। 

दिल्ली के बाद बिहार में करारी हार से उत्तर प्रदेश के अपने प्रदर्शन को लेकर चिंतित भाजपा में उन्हे कुछ साल पहले ही उन्हे मुख्यमंत्री पद के चेहरे के रूप में पेश करने की चर्चा हो रही थी।


योगी आदित्य नाथ का राजनैतिक करियर

2016 मार्च में गोरखनाथ मंदिर में हुई भारतीय संघ सभा के चिंतन बैठक में आर एस एस के बड़े नेताओं की मौजूदगी में योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया गया। तब संतो ने कहा हम 1992 में एक हुई थे। तो ढांचा तोड़ दिया।  केन्द्र में अपनी सरकार हैं। जब सुप्रीम कोर्ट का फैसला हमारे पक्ष में आ जाए तो भी प्रदेश में मुलायम या मायावती की सरकार रहते राम जन्म भूमि मंदिर नही बन पायेगा। इस के लिए हमें योगी आदित्यनाथ को मख्यमंत्री बनाना होगा।

उतराखंड के गढ़वहाल की एक गांव से आई अजेसिंग बेस्ट के एक योगी आदित्यनाथ बनने के पहले जीवन के बारे में लोगो को ज्यादा कुछ नहीं मालूम सिवाय इसके कि वे हिमवती नंदन भगुना विश्व विद्यालय गड़वाहल से वैज्ञान स्थानक है। ओर उनके परिवार वालों ट्रांसपोर्ट बिजनेस में है। गोरखनाथ मंदिर में लोगो की बहोत आस्था हैं। मकरसंक्रांति पर हर धर्म ओर वर्ग के लोग बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने आते है। 

महंत दिग्विजयनाथ ने इस मंदिर को 52 एकर में फैलाया था। उन्ही के समय गोरखनाथ मंदिर हिंदू राजनीति के महत्वपूर्ण केंद्र में बदला। जिसे बाद में महंत अवेदनाथ ने ओर आगे बढ़ाया।

गोरखनाथ मंदिर के महंत की गद्दी का उतर अधिकारी बनने के 4 साल बाद ही महंत अवेदनाथ ने योगी आदित्यनाथ को अपना राजनेतिक उतर अधिकारी बनाया। जिस गोरखपुर से महंत अवेदनाथ 4 बाद सांसद रहे उसी सीट से योगी आदित्यनाथ 1998 में 26 वर्ष की उम्र में लोकसभा पहुंचे। पहला चुनाव वे 26 हजार के अंतर जीते। पर 1999 के चुनाव में वे हार जीत का ये अंतर सिर्फ 7322 स्कोर पर सीमित रहा। इसके बाद उन्हों ने निजी सेना के रूप में हिंदू युवा वाहिनी का एक गठन किया।


Read More 👉🏻 Karan Johar Biography in Hindi || Karan Johar Lifestyle, Wife, Income, House,Cars , Family, Biography, Movies & Net Worth


जिसे वे संस्कृती संगठन कहते है। ओर जो ग्राम रक्षादल के रूप में हिन्दू विरोधी, राष्ट्र विरोधी ओर मऊवादी विरोधी गतिविधि ओ को नियंत्रित करता है।

दोस्तो में आपको एक बात बताऊं तो हिंदू युवा वाहिनी के खाते में एक गोरखपुर देवव्रिया महाराज गंज सिद्धार्थनगर से लेकर मौआजम गढ़ तक मुसलमानो पर हमले और सांप्रदायिक हिंसा बड़का ने के दर्जनों मामले दर्ज हैं। खुद योगी आदित्यनाथ पर भी हत्या के प्रयास दंगे करने सामाजिक सदभाव को नुकसान पहुंचा ने दो समुदाय के बीच नफरत फ़ैलाने धर्म को क्षति पहुंचाने आरोपो में 3 केस दर्ज हैं। 

योगी आदित्यनाथ का नाम कुछ घटनाओं में भी सामिल है। इन घटनाओं की शरुआत महाराज गंजीले में पंचरुख्या कांड से होती हैं। जिसमे योगी आदित्यनाथ के काफिले से चली गोली से समाजवादी पार्टी के एक नेता की सरकारी गणत सिद्ध प्रकाश यादव की मौत हो गई। मामला सी बी सी आई डी को सोपा गया। ओर उन्हों ने जांच में योगी जी को क्लीन चिट दे दी।

हालाकि समाजवादी पार्टी के नेता के डटे रहने से मुक़दमा अभी भी चल रहा है। रिपोर्ट्स की माने तो ऐसी घटनाओं की एक लंबी लिस्ट है। लेकिन किसी में भी योगी आदित्यनाथ के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला। हालाकि आज भी बह अपने प्रिय विषय लव जिहाद,  घर वापसी,  इस्लामिक आतंकवाद मऊवाद पर हिंदू संमेलनो का आयोजन कर गरस्ते रहते हैं।

और दोस्तो दूसरा फेक बतावू की कुछ ही सालो में हिंदू युवा वाहिनी के इन कामों से गोरखपुर में शांति बढ़ने लगी। ओर दंगो की संख्या कम होने लगी। ओर इसी कारण वहा की ज्यादातर आबादी का योगी आदित्यनाथ के ऊपर विश्वास बढ़ने लगा। ओर इसी का नतीजा यह हुआ की वॉट्स में उनकी जीत का अंतर बढ़ने लगा। ओर साल 2014 का चुनाव वे 3 लाख से भी अधिक वोट से जीते। वहा की जनता योगी आदित्यनाथ की सरकार से बहुत खुश थी। 

मंदिर द्वारा चलाए जाने वाले 3 दर्जन से ज्यादा शिक्षक स्वास्थ संस्थाओं के वे अध्यक्ष या सचिव है। वे एक मेडिकल इंस्टीट्यूट बनाने भी जुटे हैं। उनके दिन चल्य की शुरुआत सुबह मंदिर में लगने वाले दरबार से होती हैं। जिसमे वे लोगो की समस्याये सुनते हैं। और इसके समाधान के लिए अफसरों को आदेश देते हैं। 

इसके बाद क्षेत्र की समस्याये लोकार्पण के कार्यक्रमों और बैठको में व्यस्त हो जाते हैं। दोस्तो ये थी योगी आदित्यनाथ की जीवन की कहानी इस बायोग्राफी में मेने ज्यादा से ज्यादा कोशिश करी की न्यूट्रल पक्ष रखे। पर अगर भूल से भी मेने किसीकी ज्यादा तरफदारी करदी हो तो उसके लिए में आपको पहले ही बताना चाहता हूं कि ये बायोग्राफी किसी भी कम्यूनिटी या ग्रुप से जुड़ी हुई नही हे। ये बायोग्राफी हमारे इंटरनेट रिसर्च पे बेस थी तो अगर आपको ये बायोग्राफी पसंद आई हो तो कॉमेंट करके जरूर बताएं और लाइक करके हमारा मनोबल बढ़ा सकते है।


योगी आदित्यनाथ  के बारे में कुछ ऐसे सवाल जो लोग अक्सर जानना चाहते हैं।


1. Yogi Adityanath Age
Answer - 49 Years

2. What is Yogi Adityanath real name?
Answer -  Ajay Mohan Bisht

3. Who is the mother of Yogi Adityanath?
Answer - Savitri Devi

4. When was adityanath born?
Answer - 5 June 1972

5. Where is from Yogi Adityanath?
Answer - Pauri Garhwal


मेरा नाम Hindi Insder है, मैं इसी तरह की अलग-अलग बायोग्राफी लिखता रहता हूं। अगर आपको "Yogi Adityanath Biography in Hindi || अजय सिंह से योगी आदित्यनाथ तक की कहानी"  पसंद आया हो तो इस आर्टिकल को अपने फ्रेंड के साथ शेयर कर दो।

इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए धन्यवाद 🙏🏻😊|